कर्नाटक में इस प्रकार बच सकती है कुमारस्वामी सरकार..

0
1265

कर्नाटक में सियासी घमासान जारी है। कुमारस्वामी सरकार और येदियुरप्पा आमने-सामने हैं। गुरुवार को सदन में बहुमत परीक्षण नहीं हो सका, जिसके बाद येदियुरप्पा के नेतृत्व में बीजेपी विधायक विधानसभा में ही धरने पर बैठे हैं। वहीं राज्यपाल ने मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को चिट्ठी लिखकर कहा कि शुक्रवार को डेढ़ बजे तक सदन के पटल पर बहुमत साबित करे। वहीं गुरुवार को सदन में बीजेपी और सरकार के विधायकों के बीच जमकर बहस हुई। राज्यपाल ने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि चाहे रात के 12 ही क्यों न बज जाएं लेकिन विश्वासमत का परीक्षण आज ही होना चाहिए।

बता दें, सत्ताधारी गठबंधन के 16 विधायकों के इस्तीफा देना के बाद राज्य में सियासी संकट खड़ा हो गया है और कुमारस्वामी गिरने की कगार पर है। वहीं सरगर्मी भरे माहौल में गुरुवार को शुरू हुई सदन की कार्यवाही में 20 विधायक नहीं पहुंचे। इनमें 17 सत्तारूढ़ गठबंधन के हैं। बागी विधायकों में से 12 फिलहाल मुंबई के एक होटल में ठहरे हुए हैं। 

गुरुवार को सदन में बीजेपी नेता येदियुरप्पा ने कहा कि वे जानते हैं कि गठबंधन सरकार क्या करने वाली है? लेकिन हम 105 है। वे 100 से कम होंगे और यकीनन सरकार गिर जाएगी।

बता दें, बुधवार को ही उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुनाया कि कांग्रेस-जद(एस) के 15 बागी विधायकों को विधानसभा के मौजूदा सत्र की कार्यवाहियों में हिस्सा लेने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता।

कुमारस्वामी के पास ये हैं रास्ते

अगर कुमारस्वामी के समर्थन में कुछ बीजेपी विधायक वोट कर देते हैं तो निश्चि तौर पर सरकार बनी रह सकती है।

वहीं सत्तारुढ़ पार्टी के 17 विधायकों के बगैर कुल 207 सीटों के हिसाब से बहुमत परीक्षण होगा तो सरकार गठन के लिए 104 विधायकों का होना जरुरी है, ऐसे में बीजेपी सरकार का बनना तय है, लेकिन अगर सरकार कुमारस्वामी कुछ बीजेपी विधायकों को मंत्रीपद वगैरह का लालच देकर अगर उन्हें अपने पाले में कामयाब होते हैं तो सरकार बचा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here