दिवंगत बीजेपी नेता मांगे राम गर्ग जी का जीवन परिचय

0
515

कैलाश अग्रवाल की कलम से – मांगेराम गर्ग का जन्म 23 नवम्बर, 1936 को हरियाणा के नरवाना तहसील के कुराड़ गांव में हुआ था। मांगेराम गर्ग जी बाल्यकाल से स्वयंसवेक रहे हैं। उन्होंने अपना शरीर चिकित्सक शोध के लिए लेडी हार्डिंग मेडिकल काॅलेज को दान कर दिया। जीवन भर वो समाज के काम आते रहे और निधन के उपरान्त भी वह समाज के ही काम आयेंगे। यह है संघ का बलिदान जो जीवन के उपरान्त भी समाज के लिये समर्पित है। उन्होंने अपने जीवन काल में स्वयं की कमाई का सब कुछ अनेक संस्थाओं को देश एवं समाज हित में दान कर दिया। मांगेराम गर्ग 83 वर्ष के थे।

युवा अवस्था के समय से ही जनसंघ से जुड़े रहे मांगेराम गर्ग जी, स्वामी विनोबा भावे के स्वच्छता के लिए चलाया जा रहा स्वावलम्बन आंदोलन से जुड़े रहे। समालखा रेलवे स्टेशन पर आजादी से पूर्व बाल्यकाल में गर्ग ने यात्रियों को पानी पिलाकर सेवा के काम की शुरूआत की। मांगेराम गर्ग जी हमेशा कहा करते थे कि राजनीति सेवा का सर्वश्रेष्ठ माध्यम है। मांगेराम गर्ग ने दो पुस्तकें भी लिखी हैं एक सेवा का सच और महाकलेश्वर। श्री गर्ग दैनिक दिनचर्या को डायरी में लिखकर अपने काम के लेखा जोखा का स्वयं मूल्यांकन करते थे।

दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष तक का सफर

भाजपा की समिति अध्यक्ष से लेकर प्रदेश अध्यक्ष तक सफर। जिला अध्यक्ष के बाद दिल्ली भाजपा प्रदेश महामंत्री, प्रदेश कोषाध्यक्ष के बाद 1997 में दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष बने। इनके नेतृत्व में 1999 में भाजपा ने दिल्ली की सभी सातों सीटों पर विजय प्राप्त करके श्रद्धेय अटल बिहारी बाजपेयी जी के हाथ मजबूत किये थे। मांगेराम गर्ग लगातार पांच सालों तक 2002 तक प्रदेश अध्यक्ष रहे। 2003 से 2008 तक दिल्ली विधानसभा के सदस्य रहे। राष्ट्रीय आजीवन सहयोग निधि के प्रमुख 2002 से 2014 तक रहे। 2014 से भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यालय निर्माण समिति के सदस्य के रूप में काम देख रहे थे जिसके तहत भाजपा के प्रदेशों एवं जिलों में कार्यालय निर्माण का काम किया जा रहा था।

धार्मिक कार्यों में रहे सक्रिय

मांगेराम गर्ग ने सैकड़ों सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाओं का गठन करके सेवा भाव का काम किया। प्रमुख संस्थायें: धर्मयात्रा महासंघ, अग्रवाल निष्काम सेवा ट्रस्ट हरिद्वार, आदर्श रामलीला कमेटी, आदर्श शिक्षा संस्थान, आदर्श धर्ममार्थ संस्थान, आदर्श विवाह समिति, अग्रवाल वेलफेयर सोसायटी, एकता चेरिटेबल ट्रस्ट गोवर्धन, शिव कृष्णा सेवा ट्रस्ट वृंदावन, नीलकंठ धाम हरिद्वार, गंगामाता चेरिटेबल ट्रस्ट हरिद्वार हैं।

अभी भी है संयुक्त परिवार

मांगेराम गर्ग जी का अभी भी संयुक्त परिवार है जिसमें 28 सदस्य एक साथ मिलकर रहते हैं। पांच पुत्र सुभाष गर्ग, सुरेश गर्ग, अशोक गर्ग, सतीश गर्ग एवं संजय गर्ग, एक सुपुत्री बाला गर्ग के रूप में भरापूरा परिवार है। इनकी पत्नी स्वर्गीय अंगुरी देवी जी का स्वर्गवास चार वर्ष पूर्व ही हो गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here