मोदी सरकार के 50 दिनों के कामकाज का लेखा-जोखा

0
96

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मोदी सरकार के पिछले 50 दिनों के कामकाज का लेखा-जोखा दिया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सबका साथ सबका विकास के मंत्र पर काम कर रही है। उन्‍होंने जोर देकर कहा कि सरकार मुख्‍य रूप से किसानों, सैनिकों, युवाओं, श्रमिकों, व्‍यापारियों, अनुसंधान कार्यों, पड़ोसी देशों के साथ संबंधों पर ध्‍यान देने के साथ-साथ निवेश, आधारभूत विकास, भ्रष्‍टाचार के खिलाफ कार्रवाई और सामाजिक न्‍याय पर भी ध्‍यान केन्द्रित कर रही है।

सरकार के फैसले के बारे में बताते हुए प्रकाश जावड़ेकर ने कहा सभी किसानों को अब 6,000 रूपये दिये जायेंगे। कई फसलों के लिए न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य को दोगुना किया गया है, जो कुछ मामलों में 2014 की दरों की तुलना में तिगुना भी हो गया है। उन्‍होंने कहा कि किसानों को प्रशिक्षित करने के लिए 10,000 किसान उत्‍पादक संगठन बनाये जा रहे हैं।

श्रम कानून में परिवर्तन होने से मजदूरी और श्रम सुरक्षा द्वारा अनौपचारिक क्षेत्र के 40 करोड़ कामगारों को लाभ मिलेगा। व्‍यापारियों को पहली बार पेंशन दिया जा रहा है।

प्रकाश जावड़ेकर ने देश में निवेश बढ़ाने के उद्देश्‍य से उठाये गये कदमों के बारे में चर्चा की। उन्‍होंने कहा कि सार्वजनिक बैंकों में पूंजी बढ़ाने के लिए 70,000 करोड़ रूपये दिये गये हैं। भारत 5 ट्रिलियन डॉलर वाली अर्थव्‍यवस्‍था बनने जा रहा है।

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि अगले पांच वर्षों में आधारभूत सुविधाओं के विकास के लिए 100 लाख करोड़ रूपये का निवेश किया जायेगा। उन्‍होंने कहा कि सरकार जल से जुड़ी समस्‍याओं के व्‍यापक समाधान के लिए अभियान के रूप में काम कर रही है, अलग से जल शक्ति मंत्रालय का गठन इसी महत्‍व को उजागर करता है।

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर में अलगाववादियों से जुड़ी घटनाओं में कमी लाने में सरकार को सफलता मिली है। प्रधानमंत्री के मालदीव और श्रीलंका के दौरे के महत्‍व के बारे में चर्चा करते हुए उन्‍होंने कहा कि बिम्‍सटेक और जी-20 के माध्‍यम से अपना देश एक वैश्विक नेतृत्‍व के रूप में उभरा है।

प्रकाश जावड़ेकर ने पॉक्‍सो कानून में संशोधन के जरिये यौन अपराध से बच्‍चों की सुरक्षा के लिए सरकार की इच्‍छा-शक्ति के बारे में भी चर्चा की। उन्‍होंने देश में चिकित्‍सा शिक्षा में सुधार के साथ-साथ चिकित्‍सा शिक्षा से जुड़े प्रशासन, उत्‍तरदायित्‍व और गुणवत्‍ता सुनिश्चित करने के लिए उठाये गये कदमों के बारे में चर्चा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here